देशभक्त

हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई ,
या जैन या बौद्ध की कौम,
चलो बताऊँ सबसे बेहतर ,
देश भक्त है आखिर कौन।

जाति धर्म के नाम पे इनमें ,
कोई ना संघर्ष रचे ,
इनके मंदिर मुल्ला आते,
पंडा भी कोई कहाँ बचे।

टैक्स बढ़े कितना भी फिर भी,
कौम नहीं कतराती है ,
मदिरालय से मदिरा बिना,
मोल भाव के ले आती है।

एक चीज की अभिलाषा बस,
एक चीज के ये अनुरागी,
एक बोतल हीं प्यारी इनको,
त्यज्य अन्यथा हैं वैरागी।

नहीं कदापि इनको प्रियकर,
क्रांति आग जलाने में ,
इन्हें प्रियकर खुद हीं मरना,
खुद में आग लगाने में।

बस मदिरा में स्थित रहते,
ना कोई अनुचित कृत्य रचे,
दो तीन बोतल भाँग चढ़ा ली,
सड़कों पर फिर नृत्य रचे।

किडनी अपना गला गला कर,
नितदिन प्राण गवाँते है ,
विदित तुम्हें हो लीवर अपना,
देकर देश बचाते हैं।

शांति भाव से पीते रहते ,
मदिरा कौम के वासी सारे,
सबके साथ की बातें करते ,
बस बोतल के रासी प्यारे।

प्रतिक्षण क़ुरबानी देते है,
पर रहते हैं ये अति मौन ,
इस देश में देशभक्त बस ,
मदिरालय के वासी कौम।

--

--

[IPR Lawyer & Poet] Delhi High Court, India Mobile:9990389539

Love podcasts or audiobooks? Learn on the go with our new app.

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store
Ajay Amitabh Suman

Ajay Amitabh Suman

[IPR Lawyer & Poet] Delhi High Court, India Mobile:9990389539

More from Medium

Casualties of War Poem

The Color Brown

Something(s) Very Gentle…

light coming through a window, two plants sit below it.

Sweet lies