चाहत

अदा भी सनम के ,

क्या खूब है खुदा मेरे।

लेके दिल पूछते है ,

क्या दिल से चाहता हूँ।

जो दिल ही दे दिया है ,

तो दिल की इस बात को।

दिल से जताऊं कैसे ,

कि दिल से चाहता हूँ।

ये दिल जो ले गए हो ,

दिमाग भी ले जाओ।

मेरी जमीं तुम्हारी ,

आकाश भी ले जाओ।

बस एक जनम की,

चाहत नहीं है मुझको ।

लगता है मुझको ऐसे,

सदियों से चाहता हूँ ।

फिदा थे तुमपे पहले ,

फिदा है तुमपे अबतक।

और चाहुँ क्या तुमसे ,

क्या कहना चाहता हूँ।

समा जाए तू मुझमे ,

समा जाऊँ मै तुुुझमें।

बस इतना चाहता हूँ ,

बस इतना चाहता हूँ।

अजय अमिताभ सुमन

सर्वाधिकार सुरक्षित

--

--

--

[IPR Lawyer & Poet] Delhi High Court, India Mobile:9990389539

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store
Ajay Amitabh Suman

Ajay Amitabh Suman

[IPR Lawyer & Poet] Delhi High Court, India Mobile:9990389539

More from Medium

This is not dying

Memory is the Lost Cause