क से काली नहीं कौआ

क से काली नहीं, कौआ ,
प से पार्वती नहीं,पाड़ा।

भ से भोलेनाथ नहीं भैंस,
और ग से गणेश नहीं गिद्ध।

काली का क उतना ही है,
जितना की कौए का।
पार्वती का प उतना ही है
जितना की पाड़े का।

फिर भ से भोलेनाथ क्यों नहीं?
और क्यों नहीं ग से गणेश?

क्योंकि, कौए, पाड़े, भैंस और गिद्ध,
किसी एक धर्म के नहीं,
बल्कि सारे धर्मों के हैं ,
धर्म निरपेक्ष।

--

--

--

[IPR Lawyer & Poet] Delhi High Court, India Mobile:9990389539

Love podcasts or audiobooks? Learn on the go with our new app.

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store
Ajay Amitabh Suman

Ajay Amitabh Suman

[IPR Lawyer & Poet] Delhi High Court, India Mobile:9990389539

More from Medium

Pamela Stewart Punk Pantoum

The Power of Sisterhood in the Darkest Times: A review of the poem, “Goblin Market”

International Women’s Day: Not so woman-ish?

Tess McGill