ईश्वर की राह

प्रभु की राह तो बहुत सरल है. भला प्रेम करना भी कोई मुश्किल काम है ? पर हम कितनों को हम प्रेम कर पाते हैं? प्रभु का नहीं मिलना, हमारी जटिलताओं के कारण है , न कि प्रभु के कारण. इस कविता मे मैंने यहीं भाव प्रस्तुत किये हैं.

कितना सरल है

सच?

कितना कठिन है सच कहना।

कितना सरल है,

प्रेम?

कितना कठिन है,

प्यार करना।

कितनी सरल है,

दोस्ती,

कितना मुश्किल है,

दोस्त बने रहना।

कितनी मुश्किल है,

दुश्मनी?

कितना सरल है,

दुश्मनी निभाना।

कितना कठिन है.

पर निंदा,

कितना सरल है,

औरों पे हँसना।

कितना कठिन है,

अहम भाव,

कितना सरल है,

आत्म वंचना करना।

कितना सरल है.

बताना किसी को,

कितना मुश्किल है,

कुछ सीखना।

कितना सरल है,

राह प्रभु की?

कितना कठिन है,

प्रभु डगर पे चलना।

अजय अमिताभ सुमन: सर्वाधिकार सुरक्षित

--

--

--

[IPR Lawyer & Poet] Delhi High Court, India Mobile:9990389539

Love podcasts or audiobooks? Learn on the go with our new app.

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store
Ajay Amitabh Suman

Ajay Amitabh Suman

[IPR Lawyer & Poet] Delhi High Court, India Mobile:9990389539

More from Medium

12–12–12

The full moon in leo rises between periwinkle and pink clouds framed by deep green trees on either side

Relativity

Growing Up Together, with Impact