आदतें

तुम आते हीं रहो देर से,हम रोज हीं बतातें है,

चलो चलो हम अपनी अपनी,आदतें दुहराते हैं।

लेट लतीफी तुझे प्रियकर, नहीं समय पर आते हो,

मैं राही हूँ सही समय का, नाहक हीं आजमाते हो।

मेरी इस कोशिश में कोई कसर नहीं बाकी होगा,

फ़िक्र नहीं कि तुझपे कोई असर नहीं बाकी होगा।

देखो इन मुर्गो को ये नित दिन हीं सबको उठाते हैं,

मुर्दों पे कोई असर नहीं फिर भी तो बांग सुनाते है।

मुर्गों का काम उठाना है, वो नित दिन बांग लगाएंगे,

मुर्दों पे कोई असर नहीं ,जो जिंदे हैं जग जाएंगे।

जिसका जो स्वभाव निरंतर,वो हीं तो निभाते हैं,

चलो चलो हम अपनी अपनी,आदतें दुहरातें हैं।

--

--

--

[IPR Lawyer & Poet] Delhi High Court, India Mobile:9990389539

Love podcasts or audiobooks? Learn on the go with our new app.

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store
Ajay Amitabh Suman

Ajay Amitabh Suman

[IPR Lawyer & Poet] Delhi High Court, India Mobile:9990389539

More from Medium

CS373 Spring 2022: Jonathan Li

My Journey with Dilithe for Java Full Stack Development.(28 March 2022–3 April 2022)

Unit Testing in Angular(Part 4)

THE FFFL Fantasy Mock Draft V1 (And Final Version) — 3 Rounds